हैवानियत: पिता ने पांच साल के बेटे को पीट-पीटकर मार डाला

अपराध समाचार : पढ़ाई नहीं करने की दी सजा 

हैवानियत: पिता ने पांच साल के बेटे को पीट-पीटकर मार डाला

Crime in delhi : दिल्ली एन सी आर के नेबसराय इलाके की घटना

Crime news in hindi : दिल्ली एन सी आर के नेबसराय इलाके में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। बेरहम पिता ने अपने पांच वर्ष के बेटे को इतना पीटा की कि उसकी मौत हो गई।

अपराध समाचार : नेबसराय इलाके में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। बेरहम पिता ने अपने पांच वर्ष के बेटे को इतना पीटा की कि उसकी मौत हो गई। बच्चे की गलती ये थी कि वह पिता के कहने के बावजूद पढ़ाई न कर अपनी मां के मोबाइल में गेम खेल रहा था। पड़ोसी ने इसकी सूचना पुलिस को दी थी। नेबसराय थाना पुलिस ने हत्या की धाराओं में मामला दर्जकर आरोपी पिता आदित्य पांडेय को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवा दिया है। 

Crime news in delhi : दक्षिण जिला डीसीपी बेनीटा मेरी जैकर ने बताया कि पांच वर्षीय बच्चा पंडित ज्ञान पांडेय उर्फ उत्कर्ष परिवार के नारायण अपार्टमेंट, खानपुर गांव नेबसराय में रहता था। नेबसराय थाना पुलिस को छह जनवरी की रात साकेत स्थित मैक्स अस्पताल से सूचना मिली थी कि एक पांच वर्ष के बच्चे को मृत लाया गया है। सूचना के बाद एसआई भगवान पुलिस टीम के पास अस्पताल पहुंचे। पता लगा कि उत्कर्ष को उसकी मां ने रात करीब दस बजे घायलावस्था में अस्पताल में भर्ती कराया था। रास्ते में उसकी मौत हो गई थी। बच्चे के पूरे शरीर पर चोट के निशान थे। 

Apradh samachar : पुलिस अधिकारियों के अनुसार मृत बच्चे के माता-पिता ने बच्चे को चोट लगने की जानकारी डॉक्टर व पुलिस को नहीं दी थी। आरोपियों ने पुलिस को भी शुरूआती पूछताछ में गुमराह किया। पुलिस की जांच के दौरान पड़ोसी ने पुलिस को चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर 1098 पर सूचना दे थी कि उसके पड़ोसी ने अपने बच्चे के साथ मारपीट की है और बच्चे की मौत हो गई है। नेबसराय पुलिस ने जांच के बाद शुक्रवार को आरोपी पिता आदित्य पांडेय को गिरफ्तार कर लिया। 

Crime news today: आरोपी ने बेल्ट, जूते और पाइप से की थी पिटाई पुलिस की शुरूआती जांच में ये बात सामने आई है कि आरोपी पिता ने अपने पांच वर्ष के बेटे की अपनी चमड़े की बेल्ट, जूते और प्लास्टिक के पाइप से बेरहमी से पिटाई की थी। इससे बच्चे के पूरे शरीर पर चोटें आई थीं और वह गंभीर रूप से घायल हो गया था। उत्कर्ष बार-बार बोलने के बावजूद पढ़ाई नहीं कर रहा था। वह अपनी मां के मोबाइल में मोबाइल खेल रहा था

Post a Comment

Please do not enter any spam links in the comments box.

Previous Post Next Post